Ant And Dove Story In Hindi

चींटी और कबूतर की कहानी

Advertisement

Ant And Dove Story In Hindi | चींटी और कबूतर की कहानी

एक समय की बात है पेड़ पर से एक चींटी तालाब में गिर गई, एक कबूतर ने उसे अपना जीवन बचाने के लिए जी तोड़ कोशिश करते हुए देखा, उसने एक पत्ते तोडा और चींटी के पास फेंक दिया, चींटी झट से पत्ते पर चढ़ गई और बड़ी कृतिज्ञता भरी नज़रो से उसने कबूतर का धन्यवाद किया, वह बहुत थक गई थी |

Advertisement

कुछ सप्ताहों बाद की बात है एक बहेलिया जंगल में आया – बहेलिया का तो काम ही होता है पंक्षियों का पकड़ना | उसने कुछ दाने जमीन पर फेंके और उस पर अपना जाल बिछा दिया, वह चुपचाप किसी पंक्षी के जाल में फंसने का इंतज़ार कर रहा था | वे चींटी – जो वही कही से गुजर रही थी उसने जब वह सारी तैयारी देखि – तो क्या देखती है की वही कबूतर जिसने उसकी जान बचाई थी – उड़ कर उसी जाल में फंसने के लिए धीरे – धीरे निचे उतर रहा था | चींटी ने एक दम आगे बढ़ बहेलिया के पैर पर इतनी बुरी तरह काट दिया की बहेलिया के मुँह से चीख निकल गई “ओह _ _ _ _ _ _ _ तेरी ऐसी की तैसी हाय _ _ _ ओह परमात्मा” कबूतर ने एक दम देखा की शोर किधर से आ रहा है और बहेलिया को देखते ही वह सब कुछ समझ गया और दूसरी दिशा में उड़ गया और उसकी जान बच गई, चींटी भी अपने काम पर चल दी |

कहानी का शिक्षा (Moral of the Story)

दोस्तों इस कहानी से हमे यह सिख मिलता है की “कर भला तो सब भला “ मतलब यदि आप किसी का भला करोगे तो उसके बदले आपको भी कभी न कभी किसी भी तरह से आपका भी कोई भला करेगा | धन्यवाद!

Ant And Dove Story In Hindi PDF Download

Ant And Dove Story In Hindi Video

Searches related to Ant And Dove Story In Hindi

  • Ant and dove story in English
  • Moral stories in Hindi
  • Panchatantra Stories in Hindi
  • The ant and the dove story in English written
  • Chiti aur Kabootar Kahani in Hindi
  • The Ant and the Dove short story with moral in English
  • Ant and Pigeon story in Hindi writing
  • Small Panchatantra Stories in Hindi

Check Also This Post:

Leave a Reply